ऑस्ट्रेलिया के 52 वर्षीय पूर्व स्पिन गेंदबाज़ शेन वॉर्न की हार्ट अटैक आने की वजह से मृत्यु हो गयी

shane warne demise

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व स्पिन गेंदबाज़ शेन वॉर्न की हार्ट अटैक आने की वजह से 52 साल की ही उम्र में मृत्यु हो गयी है। शेन वॉर्न के मैनेजमेंट ने अपनी स्टेटमेंट जारी करते हुए कहा “शेन वॉर्न की थाईलैंड मे हार्ट अटैक आने की वजह से मृत्यु हो गयी है। उन्हें अनुत्तरदायी हालत में अपने थइलैंड के विला में पाए गए और डॉक्टरों की काफी कोशिशों के बावजूत उन्हें बचाया न जा सका”। अभी तक ये पूरी तरह से कन्फर्म नहीं हुआ है की उनकी मृत्यु की असली वजह क्या है।

शेन वॉर्न ने मृत्यु से कुछ समय पहले ऑस्ट्रियला के पूर्व विकेट कीपर बैट्समेन रोड मार्श की मौत का शोक मानते हुए आने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए उनको श्रद्धांजलि दी। उन्होंने उस ट्वीट में कहा “मुझे ये सुनके देख हुआ की रोड मार्श अब नहीं रहे। वो एक लीजेंड थे हमारे महँ क्रिकेट खेल के और वो यंग खिलाडियों के लिए इंस्पिरेशन भी थे। रोड क्रिकेट की और काफी लगाव था और उन्होंने काफी कुछ इस खेल को दिया है और खासकर की ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाडियों को। मैं उन्हें और उनकी फॅमिली को बहुत सारा प्यार देता हु। रेस्ट इन पीस मैट।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने भी उनकी आत्मा की शांति के लिए टट्विटर पर ट्वीट करते हुए कहा विश्व क्रिकेट क्रिकेट के एक महान खिलाडी की अचानक से उनके थाईलैंड के विला में मृत्यु से काफी दुखी है। क्रिकेट के बड़े बड़े खिलाडियों ने भी उनकी आत्मा की शांति के लिए अपने सोशल मीडिया हैंडल्स से श्रद्धांजलि दी। शेन वॉर्न ने अपने क्रिकेटिंग करिअर में काफी रैवेलरी बनाई थी। उनकी और भारत के सचिन तेंदुलकर की ग्राउंड पर नोक झोक उनके करिअर के यादगार पलों में से एक हैं।

शेन वॉर्न के क्रिकेटिंग कॅरिअर की उनलब्धिया और रिकॉर्ड

शेन वॉर्न ऑस्ट्रेलिआ के टेस्ट क्रिकेट के सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ थे। उन्होंने अपने 15 साल के टेस्ट कॅरिअर में 708 विकेट चकाये थे। साथ ही साथ शेन वॉर्न विश्व के टेस्ट क्रिकेट में दूसरे सबसे ज्यादा विकेट वाले मुत्तेहिया मुरलीधरन के बाद दूसरे गेंदबाज़ हैं। मुत्तेहिया मुरलीधरन ने अपने टेस्ट क्रिकेट में 800 विकेट और शेन वॉर्न ने 708 विकेट चकाये है।

शेन वॉर्न ने होने टेस्ट कॅरिअर में 145 मुकाबले खेले थे और के ऑस्ट्रेलिया के चौथे सबसे ज्याद मैच खेले वाले खिलाडी थे। उन्होंने 145 मुकाबले के साथ 194 एक दिवसीय मुकाबले भी खेले थे। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद शेन वॉर्न टी-20 लीग में खेला करते थे और बाद वो राजस्थान रॉयल्स के गेंदबाज़ी कोच भी बने। उन्होंने अपना आखिरी टी-२-20 लीग मुकाबला मुकाबला मेलबोर्नस्टार्स स्टार्स की तरह से बिग बैश लीग 2013 में खेला था।

शेन वॉर्न के अगर क्रिकेटिंग कॅरिअर को साइड में रख दे तो वह एक बहुत अच्छे कमेंटेटर भी थे। शेन वॉर्न साथ ही साथ काफी चैरिटेबल आर्गेनाईजेशन के साथ भी जुड़े हुए थे। उन्होंने अपने क्रिकेटिंग करार में हमें काफी सारे यादगार पल दिए हैं और अब हम आखिरी में उनकी आत्मा की शांति की कामना करते हैं। भगवान् उनकी आत्मा को शांति दे। रेस्ट इन पीच चैम्प।

Leave a Reply

Your email address will not be published.